बदचलन औरतें - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Saturday, March 20, 2021

बदचलन औरतें

 बदचलन औरतें 


वे औरतें

जो तुम्हारे लिबासों में 

फिट नहीं होती

तुम्हारे संस्कारों में भी 

एडजस्ट नहीं होती

वो सहती नहीं डरती नहीं 

बेमौत कभी मरती नहीं

तुम्हारी मर्दवादी सोच को

वो झेलती नहीं 

तुम्हारे बिछाए बिसात पर

वो खेलती नहीं


वे औरतें

जो तुम्हारे दस्तूर 

से कोसों दूर होती हैं 

लेकिन 

खुद की खुमारी में

चूर होती हैं

वो औरतें 

जो तुम्हारे वियोग में 

दुबली नहीं होती

और तुम्हारी कुंठाओं में

अबला नहीं होती

तुम्हारी चौखटों पर

वो दस्तक नहीं देती

तुम्हारी आज्ञाओं के आगे

नतमस्तक नहीं होती

वे औरतें

जो तुम्हारे साधनाओं के आगे झुकती नहीं

तुम्हारी बाधाओं के आगे कभी रुकती नहीं

वे औरतें जो 

चलन के खिलाफ चलती हैं

जमाना उन्हें बदचलन कहता है


वे औरतें

जो तुम्हारे आदेश पर

मुस्कुराती तक नहीं

लेकिन खुद की मर्जी से

ठहाका लगाकर हँसती हैं

तुम्हारे बताए रास्ते पर

वो एक कदम भी नहीं चलती

लेकिन खुद के बनाये आसमाँ में

वो उचाईयों तक उड़ती हैं

वे औरते 

जो इतिहास को पढ़ना जानती हैं 

वर्तमान से लड़ना जानती हैं

और भविष्य में आगे बढ़ना जानती हैं

वे औरतें जो 

हवाओं के खिलाफ चलती हैं

जमाना उन्हें बदचलन कहता है


वे औरतें जो

बेड़ियों को तोड़ना जानती हैं

सीमाओं को छोड़ना जानती हैं

बाधाओं को लांघना जानती हैं

रेखाओं को मिटाना जानती हैं

विपदाओं से उलझना जानती हैं

मुश्किलों में सुलझना जानती हैं

जिन्हें नारी होने का अभिमान है

जिन्हें औरत होने पर नाज है

जो नजरों से सबकुछ भाप लेती हैं

कदमों से दुनिया नाप लेती हैं


वे औरतें

जो वक्त की रफ्तार से

दो कदम आगे चलती हैं

जमाना उन्हें बदचलन कहता है


वे औरतें जो 

तुम्हारी मर्जी से रोती नहीं

तुम्हारी इच्छाओं की सेज 

पर सोती नहीं 

जो खुद की मर्जी से जागती है

और खुद के बनाये रास्ते पर भागती हैं


जो तस्वीर को बदलना चाहती हैं

तकदीरों को पलटना जानती हैं

जिसका कोई परमात्मा

या खुदा नही होता

जिसका जिस्म 

उसकी रूह से जुदा नही होता

वे औरतें

जो तुम्हारे टुकड़ों पर

नहीं पलती

जो तुम्हारे पीछे नहीं चलती

जो चिंताओं में नहीं खलती

और चिताओं पर नहीं जलती


वे औरतें

जो पैरों की जंजीरों को तोड़ कर

चलती हैं 

जमाना उन्हें बदचलन कहता है


-शकील प्रेम

No comments:

Post a Comment

Pages