दिमाग को किसने बनाया ? - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Sunday, July 26, 2020

दिमाग को किसने बनाया ?

सलमान मियां
यदि मैं आपसे पूछूं की आपको डॉक्टर किसने बनाया तो शायद आपका जवाब होगा की अल्लाह ने तौफीक अता फरमाई तो आप डॉक्टर बन गये और मैं गारंटी से कह सकता हूँ की आप उसी केटेगरी के (झोलाछाप) डॉक्टर  हैं जो मां बाप और बुजुर्गों की मुसल्ले पर पढ़ी गई दुआओं से डॉक्टर बन जाते हैं.

आप अपनी मेहनत से डॉक्टर बने होते तो यह सवाल कभी न करते क्योंकि एक डॉक्टर को इतनी समझ तो होती ही है की वह ह्यूमन ब्रेन के विकास का इतिहास समझ सके.

दो लाख साल पहले का ह्यूमन दूसरे स्तनपाई जीवों से ज्यादा अलग नही था उस समय उसका दिमाग आपके दिमाग जितना ही विकसित हो पाया था यह विकासप्रक्रिया की लम्बी यात्रा है जो आज भी चल रही है इस अंतहीन विकासयात्रा में दो लाख साल बाद की मनुष्य जाती कहाँ खड़ी होगी इस बात का हम अंदाजा भी नही लगा सकते है.

किसी भी चीज को जानने के लिए पांच ज्ञानेन्द्रियाँ होती हैं जिन्हें हम फाइव सेंसेस कहते हैं इन ज्ञानेंद्रियों द्वारा हम अपने आसपास की चीजों के बारे में जानकारी हासिल करते है लेकिन कुछ चीजें हमारे सेंसेस से बाहर की होती हैं जिन्हें हम अनुभव से समझते हैं फिर जो बातें अनुभव से भी बाहर की होती हैं उन्हें हम लॉजिक से समझते हैं और जो बातें लॉजिक से बाहर होती हैं उन्हें हम विज्ञान द्वारा समझने की कोशिश करते हैं.

ज्ञानेन्द्रियों पर आधारित हमारी समझ लाखों वर्षों के इंसानी एवोल्यूशन से तैयार हुई है हम मनुष्य सामाजिक प्राणी हैं अब तक के सामाजिक इतिहास से हमने बहुत कुछ इकट्ठा किया हुआ है जिसके आधार पर हम कुदरत को समझते हैं और इस समझ को लगातार एडवांस करते जाते हैं. 

आप अपनी पढ़ाई कक्षा 6 से दुबारा शुरू कीजिये सब कन्फ्यूजन दूर हो जाएगा.

-शकील प्रेम

No comments:

Post a Comment

Pages