हमें नेचर की इबादत करनी चाहिए ? - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Tuesday, June 9, 2020

हमें नेचर की इबादत करनी चाहिए ?


यदि अल्लाह नही है तो क्या हमें नेचर की इबादत करनी चाहिए ? नुरुल्लाह कुरैशी

जी नही , मानव जाति का इतिहास नेचर से लड़ने का ही रहा है प्रकृति से लड़ते हुए ही हम आज यहां तक पहुंचे हैं यह सच है कि प्रकृति हमारी पालनहार है लेकिन यह भी सत्य है कि यही प्रकृति हमारी सबसे बड़ी दुश्मन भी है कुदरत हमें धरती वायु और आकाश के अलावा कुछ भी फ्री में नही देती जीने के लिए सभी जरूरी तत्व हम प्रकृति से लड़कर ही हासिल करते हैं जब हम खेती करते हैं तो प्रकृति से लड़ते हैं शहर गांव सड़के इमारतें नदियों पर बांध यह सब कुदरत से हमारे संघर्षों का परिणाम ही तो है इसलिए प्रकृति की पूजा करना यह एक तरह का अंधविश्वास ही है हमें प्रकृति की पूजा नही बल्कि नेचर को इस पर रहने वाले समस्त जीवों के अनुकूल बनाये रखने का जतन करना चाहिए.

आप प्रकृति की इबादत करेंगे तो क्या सुनामी नही आएगी ? भूकम्प रुक जाएंगे ज्वालामुखी नही फटेंगे बाढ़ नही आएगी सूखा नही पड़ेगा ? इन सभी प्राकृतिक आपदाओं से पूरी मानवजाति को हमेशा खतरा रहेगा इसके लिए हमे प्रकृति की इबादत करने की बजाए विज्ञान को मजबूत करना होगा.

समस्त मानवजाति के हित के लिए हमें सभी प्राकृतिक संसाधनों का सम्मान जरूर करना चाहिए और सम्मान करने का सबसे बेहतर तरीका यह होगा कि हम प्राकृतिक संसाधनों को समस्त मानवों के बीच साझा करने की नीतियों पर काम करें और प्रकृति का संतुलन बनाये रखने की समझ को अपनी संस्कृति का अभिन्न हिस्सा बना लें.

-शकील प्रेम

No comments:

Post a Comment

Pages