एक भक्त को जवाब - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Wednesday, June 10, 2020

एक भक्त को जवाब

भाई साहब इस्लाम के खिलाफ बोलकर पैसा कमा रहे हो कोई मनोरंजन करता है कोई गाली देता है यहां सबकी दुकानें चलती हैं लेकिन तुम्हारा दुकान कम चल रही है इसलिए तो फेसबुक पर पेज और youtube पर दो दो चैनल बना रखे हैं तुम्हारा मकसद बस इतना है की तुम मुस्लिम नाम रखकर इस्लाम को बदनाम करो और पैसे कमाओ लगे रहो - जमालुद्दीन सुलेमानी जबलपुर

मैं फेसबुक पर वीडियो अपलोड करता था लेकिन आप जैसे कट्टरपंथियों को रास नही आया और उन्होंने वहां ऐसी रिपोर्टिंग की जिससे फेसबुक ने मेरे पेज पर कई तरह की पाबंदी लगा दी यही हाल यूट्यूब का भी है मेरे "shakeel prem" वाले चैनल पर भी जमकर रिपोर्ट की गई जिसकी वजह से youtube ने अनिश्चितकाल के लिए वहां वीडियो अपलोड करने पर पाबंदी लगा दी है "Tarksheel Bharat" यूट्यूब चैनल पर भी लगभग ऐसा ही हाल है अधिकांश videos की मोनीटाइजिंग हटा दी गई है.

धर्म दुनिया का सबसे पुराना धंधा है इसके खिलाफ बोलने वाले मिटा दिए जाते हैं यह मैं बखूबी जानता हूँ फिर भी मैं तमाम मुश्किलों को झेलते हुए धर्मों की सड़ी हुई सोच के खिलाफ काम कर रहा हूँ और भगत सिंह के विचारों को फिर से जिंदा करने की कोशिश में लगा हूँ.

आप कहते हैं की youtube पर मैं कमाने की खातिर ऐसे videos डालता हूँ तो आपसे बस इतना ही कहूंगा की..आज भारत की 99.9 फीसदी आबादी धार्मिक बाजारवाद की शिकार है और जिन्हें इस लूट से फायदा है वह इसके खिलाफ तो हर्गिज नही बोलेंगे लेकिन जिसे पाखण्डवाद से नफरत हो वह तो चाहेगा कि यह मानवताविरोधी दुष्कर्म जल्द से जल्द खत्म हो जाये.

मुझे व्यूज या सब्सक्राइबर्स की कभी चिंता नही होती कुछ लोगों को मेरे विचारों की सच्चाई समझ आती है इसी को मैं अपनी कमाई समझता हूँ यदि मैं कुछ मनोरंजक सामग्री अपलोड करूँ तो शायद मेरा चैनल भी बहुत आगे चला गया होता लेकिन मैं यहां मनोरंजन करने या पैसा कमाने नही आया बल्कि मैं सत्य प्रेम और परिवर्तन की मशाल लेकर चला हूँ जिसे उजालों से परहेज हो वह अपनी आंखे बन्द कर ले.

-शकील प्रेम

No comments:

Post a Comment

Pages