क्या अल्लाह धूर्त और चुगलखोर है ? - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Wednesday, June 10, 2020

क्या अल्लाह धूर्त और चुगलखोर है ?

इस आयत पर गौर कीजिये या तो यहां अल्लाह सरासर झूठ बोल रहा है या फिर वह सबसे बड़ा धूर्त मक्कार चुगलखोर और निर्लज्ज है देखिये.

"क्या तुमने इसको नहीं देखा कि अल्लाह जानता है जो कुछ आकाशों में है और जो कुछ धरती में है कभी ऐसा नहीं होता कि तीन आदमियों की गुप्त वार्ता हो और उनके बीच चौथा अल्लाह न हो और न पाँच आदमियों की वार्ता हो  जिसमें छठा वह न शामिल हो लोगों की हर वार्ता में वह उनके साथ होता है वे जहाँ कहीं भी वे हो और जो कुछ कर रहे हों अल्लाह को सब मालूम है और यह सब क़ियामत के दिन अल्लाह उन्हें अवगत करा देगा निश्चय ही अल्लाह को हर चीज़ का ज्ञान है" 

सूरह- अल-मुजादिला (Al-Mujadila) आयत नम्बर 7 

यदि इस जुमलेबाजी को सच मानें तो दुनिया में मानवता के विरुद्ध होने वाले हर षड्यंत्र में वह शामिल रहा और सबकुछ जानते हुए भी किया कुछ नहीं. औरतों की अस्मतें लुटती रहीं बच्चियों को सरे बाजार बेचा जाता रहा बूढ़े और बच्चों की हत्याएं होती रही जनसमूहों को गुलाम बनाया जाता रहा लेकिन कायनात का सृजन करने वाला तथाकथित अल्लाह लोगों के बीच की चुगलियों में मशगूल रहा, वाह.... ऐसा खुदा यदि है तो सबसे पहले उसकी हत्या कर देना मानवता के लिए सबसे जरूरी है.

-शकील प्रेम

No comments:

Post a Comment

Pages