अगर अल्लाह के होने की 1 प्रतिशत संभावना हुई तब क्या होगा ? - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Friday, June 5, 2020

अगर अल्लाह के होने की 1 प्रतिशत संभावना हुई तब क्या होगा ?

क्या आप 100 प्रतिशत दावा कर सकते हैं की अल्लाह नही है ? अगर अल्लाह के होने की 1 प्रतिशत संभावना हुई तब क्या होगा ? मुझे जहन्नम की आग से बहुत डर लगता है इसलिए मुझे मजबूरी में ही सही अल्लाह को मानना पड़ता है ताकि मैं जन्नत में जा सकूँ. अनवर मैं जानता हूँ की इस सृष्टि को बनाने वाला कोई अल्लाह ईश्वर या गॉड नाम का प्राणी कहीं नही है रही बात की अगर एक परसेंट भी वह हुआ तो फिर क्या होगा ? चलो एक परसेंट के आधार पर आपके अल्लाह को मान लेते हैं तब आप जन्नत में ही जाएंगे इस बात की क्या गारंटी है ? आपका अल्लाह केवल उन लोगों को ही जन्नत में भेजेगा जो तौहीद के रास्ते पर होंगे यानी की जिन्होंने कलमा नमाज जकात रोजा और हज का ईमानदारी से पालन किया होगा. इस हिसाब से कयामत के दिन 80 फीसदी आबादी जन्नत में जाने से वंचित हो जाएगी अब आप कहेंगे की मुसलमान होने के नाते आप को तो जन्नत मिल ही जाएगी तब यह आपकी भूल है क्योंकि आपके आखिरी नबी कह चुके हैं की मुसलमान 72 फिरकों में बंटे होंगे जिसमे कोई एक फिरका ही जन्नत में जाएगा. इस हिसाब से मुसलमान होते हुए भी आपके जन्नत में जाने की गुंजाइश तभी है जब आप उस ओरिजनल वाले फिरके से ताल्लुक रखते हों जिसके लिए जन्नत बनी है. अगर आप उस जन्नती फिरके के मेम्बर भी हैं तो भी जरूरी नही की जन्नत में उस फिरके के सभी लोगों की सीटें रिजर्व हों. इसमे भी बहुत सी शर्ते हैं. इस हिसाब से यदि आपके अल्लाह के होने की एक प्रतिशत भी संभावना है तो आपके जन्नत में पहुंचने की संभावना तो एक प्रतिशत भी नही है. कुल मिलाकर बात यह है की खुदा ईश्वर अल्लाह के नाम पर दुनिया में ढेरों समस्याएं खड़ी हैं युद्ध घृणा हिंसा गरीबी और शोषण यह सब ईश्वर को मानने वाले देशों की देन हैं ईश्वर अल्लाह खत्म तो ये सारी समस्याएं भी समाप्त हो जाएंगी इसलिए एक शिक्षित व्यक्ति के लिए किसी भी रूप में या मात्रा में ईश्वर को मानना अव्वल दर्जे के दोगलेपन के सिवा और कुछ नहीं

No comments:

Post a Comment

Pages