भक्ति में अपार शक्ति होती है... - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Thursday, August 1, 2019

भक्ति में अपार शक्ति होती है...


भक्ति में अपार शक्ति होती है

इसलिए तो भक्ति का ईजाद हुआ है
पीढ़ी दर पीढ़ी हरामखोरी करते रहने का
इस से बड़ा आविष्कार 
दुनिया मे कोई दूसरा नही

इस ईजाद ने दुनिया को
टॉप क्लास के भक्त दिए हैं
जो जीवन भर केवल इसलिए कमाते हैं
ताकि भर सकें अपना पेट
और मुफ्तखोरों की झोलियां

जानने की कोशिश भी मत कीजिये
आंख बंद कीजिये और बस मान लीजिए
वर्ना तुम्हे नास्तिक या काफिर
घोषित कर दिया जाएगा.

मान लीजिए की आसमान में दरवाजे होते हैं
उन दरवाजों पर फरिश्ते होते हैं
और
इन फरिश्तों का काम होता है 
अनंतकाल तक
खुदा की
चापलूसी में लीन रहना

यही तो भक्ति है
जिसमें अपार शक्ति है

भरोसा कीजिये उन हवाई देवदूतों पर
जिन्हें कभी आपने देखा ही नही
यकीन रखिये
उस खयाली रूह पर
जिसे आपकी सात पुश्तों ने भी 
कभी महसूस नही किया
फिर भी 
कब्र में उससे सवालात होते हैं

सवाल मत पूछिये की 
जब कब्र में ही सवाल होना है 
तब हश्र के मैदान में
अल्लाह के सिंहासन के सामने
हिसाब किताब किसलिए ?

सवाल मत कीजिये बस मान लीजिये
वर्ना तुम्हे नास्तिक या काफिर
घोषित कर दिया जाएगा.

मजहबों की
हवाई बातें 
हवाई सफर 
हवाई खुदा और 
उसके बकलोल नबियों के अफसानों को
सौ फीसदी सच मानते रहना ही
असली भक्ति है
जिसमे अपार शक्ति है
सवाल करोगे तो नास्तिक हो जाओगे

देखा किसी ने नही
बस मान लिया कि
कोई खुदा है
जो आसमान से 
फरिश्तों को धरती पर भेजता है
पैगम्बरों को नियुक्त करता है
उनके लिए
आसमान से किताबें टपकाता है
उन किताबों में
नास्तिकों को
मारने की तरकीबें समझाता है
भक्तों को
नमाजों की अहमियत बतलाता है
और खुद को महान कहलवाता है

इस पूरे हवाई निजाम पर
शक करना सवाल उठाना
सख्त मना है
मानोगे तो सब मिलेगा
खुदाई इंसाफ
जन्नत 
72 हूरें
दूध और शहद की नदियां
शराब शबाब कबाब सबकुछ...

नही मानोगे तब तो तुम 
पक्के काफिर हो ही
तुम्हारे लिए जहन्नम की आग 
तैयार है
जहां तुम जलाए जाओगे
आग में पकाए जाओगे
जब तुम्हारी खालें पक जाएंगी
तो तुम्हे दूसरी खाल दी जाएगी
और फिर से जलाया जाएगा
फिर से पकाया जाएगा
और यही क्रम 
बार बार दोहराया जाएगा
इनकार करने वालों की यही सजा है
इसलिए भक्ति का अपना ही मजा है

बस मान लो कि ये दुनिया
एक कैदखाना है
यहां से तुम्हे उस लोक जाना है
जहां से आज तक 
कोई लौट कर नही आया
और किसी ने ये नही बताया कि
सच मे 
जन्नत के नीचे नहरें बह रही हैं
और वहां खुदा के नेक भक्तों के लिए
72 हूरें इंतजार कर रही हैं

यही तो भक्ति है
जिसमें अपार शक्ति है

किसी ने नही देखा कि
आत्मा अजन्मी है
किसी ने ये नही बताया कि वो 
84 लाख योनियों के बाद
इंसान की योनि में कैसे जन्म लेती है

किसी ने नही बताया कि
जब तब धर्म की हानि क्यों हो जाती है ?
जिससे बार बार ईश्वर को 
अवतार लेना पड़ता है ?

क्या धर्म की हानि को 
लाभ में बदलने के लिए ही 
ईश्वर को बार बार अवतरित होना पड़ता है ?

सवाल मत पूछो बस मान लो
वर्ना तुम्हे नास्तिक या काफिर
घोषित कर दिया जाएगा.

किसी ने नही बताया कि
धर्म की रक्षा के लिए ही
ईश्वर परेशान क्यों होता है ?
मासूम बच्चियों से बालात्कार के वक्त
वह हैरान क्यों नही होता ?
सवाल मत करो बस मान लो
की वह दयालु है.

किसी ने यह भी नही बताया कि
हजारों साल तक बार बार 
विदेशी हमले क्यों होते रहे ?

लोग मरते रहे
देवस्थान लुटते रहे
जम्बूद्वीप के लोग लगातार
पिटते रहे
तब कण कण में विराजमान
वह शक्तिमान 
उन्हें बचाने क्यों नही आया ?

सवाल मत करो बस मान लो की
सब कुछ ईश्वर की मर्जी से होता है

ईश्वर अवतार लेता है 
दुनिया को सही राह दिखलाने के लिए
नबियों को धरती पर भेजता है.

जब खुदा के ये प्यारे पैगम्बर 
लोगो के हाथों पिटते है
सूली पर टांगे जाते हैं
तब वह उन्हें बचाने क्यों नही आता ?
सवाल मत पूछो
बस मान लो
की ईश्वर सर्वशक्तिमान है.

यही तो भक्ति है
जिसमे अपार शक्ति है

इसलिए मान लो कि
वो कण कण में विराजमान है
वो हर शय पर कादिर है
वह आपको देख रहा है
आपकी सांसों को
गिन रहा है
पत्तों को भी वह
अपने इशारों से हिला रहा है
जिंदगी और मौत
उसी के हाथों में है...

तो क्या आतंकवाद दंगे और लिंचिंग
उसी के इशारों पर हो रहा है ?
सवाल मत पूछो
सिर झुकाए बस इतना मान लो
की सब वही करता है
वह ऐसा क्यों करता है 
पूछोगे तो नास्तिक हो जाओगे

यही तो भक्ति है
जिसमें अपार शक्ति है

इंसान जन्म से भक्त नही होता
वो इंसान ही पैदा होता है
बाद में 
जिस केटेगरी के भक्त के यहां जन्मा
उसने उसे वैसा ही बना दिया
किसी ने उसे
पांचों वक्त की नमाज में लगा दिया
किसी ने उसे कांवड़ 
ढोने की ड्यूटी में लगा दिया

तिलक टोपी और क्रॉस 
इन तीन तरह के गिरोहों ने
सदियों पहले
भक्ति का ईजाद किया था
आज भी
इन तीनों केटेगरी के 
मजहबी गिरोहों से ये दुनिया 
ठसाठस भरी पड़ी है
इन तीनों प्रजाती के गिरोहों की 
सबसे बड़ी उपलब्धि यही है
की इन्होंने दुनिया को
टॉप क्लास के भक्त दिए हैं
ऐसे ऐसे भक्त
जिन्होंने पूरी दुनिया मे 
इतिहास रचा है
क्रूरता और बेवकूफियों का इतिहास
जहालत और घृणा की
लंबी दास्तान है इनके पास

इनसे पूछो की 
दुनिया को आपने क्या दिया ?

तो जवाब मिलेगा की
इनकी आसमानी किताबें 
विदेशियों ने चोरी कर ली थी
जिसमे से उन्होंने सारा का सारा साइंस 
निचोड़ लिया था.

तब क्यों नही स्वीकार करते कि 
भैया इन किताबों में अब साइंस बचा नही

लेकिन हर गली चौराहे पर
ये गिरोह दावा करते फिरते हैं कि 
सारा विज्ञान तो अब भी 
इनकी किताबों में दर्ज है.

तो कुछ साइंस आप भी 
निचोड़ कर दिखा दीजिये जनाब
बना दीजिये कुछ ऐसा
की कोई भूख से न मरे
कोई सुसाइट न करे
देश मे भ्रस्टाचार न हो
बच्चियों से बलात्कार न हो
कोई बेघर न हो
कोई बेबस न हो

बना दीजिये कोई ऐसा उपकरण
जिसके इस्तेमाल से 
इंसान के अंदर की हैवानियत 
मर जाये औऱ
उसकी मर चुकी संवेदनाएं
फिर से जी उठे

कोई ऐसा आविष्कार कर दीजिए
जिससे 
एक के जख्म से
दूसरे को पीड़ा हो
एक कि मुस्कान दूसरे की खुशी बन जाये
एक कि हंसी दूसरे का जश्न बन जाये
दुख का घनघोर अंधेरा छंट जाए
जातियों की जंजीरे कट जाएं
इंसान इंसान के बीच की दीवारें हट जायें
घृणा की घनघोर घटाएं सिमट जाएं

ईजाद कीजिये कुछ ऐसा
जिससे बाढ़ के प्रकोप से
विस्थापन न हो
बेरोजगारी की वजह से
पलायन न हो
भक्तजनों के संकट 
क्षण में दूर हो जाएं
मुश्किलें खत्म हो जाये
परेशानियां समाप्त हो जाएं
दुश्वारियां मिट जाएँ
गुरबत न रहे
नफरतें बाकी न बचे
और 
अन्याय का भी अंत हो जाये

मुझे मालूम है 
आप सभी मिलकर भी
अपनी आसमानी किताबों से
ढूंढ कर
ऐसा कुछ ईजाद नही कर सकते
क्योंकि 
उनमे वही सब तो है
जिसकी वजह से दुनिया मे
आतंकवाद दंगा फसाद अकर्मण्यता
लूट खसोट घृणा हिंसा और 
षड्यंत्रों का माहौल तैयार हुआ है 
और तुम्हारा सदियों पुराना 
यह आविष्कार आज भी 
सफलतापूर्वक चल रहा है.

आपकी किताबों में विज्ञान नही 
मनोविज्ञान छुपा है
लूट का मनोविज्ञान

इसी मनोविज्ञान के सहारे 
शोषण और पाखण्डों का 
वह सिलसिला रचा गया 
जो आज तक सफलतापूर्वक चल रहा है.

इसी मनोविज्ञान के सहारे 
भक्तों का शोषण और 
आप सभी का पोषण होता है

इसलिये
आप सभी
परजीवी हो
जो दूसरों की मेहनत पर पलते हो

इंसान सच को जान गया
तो उसकी भक्ति उसकी इबादत
क्षण भर में खत्म हो जाएगी
और आप सभी 
उस आम आदमी के सामने 
नंगे हो जाओगे
जो आज भक्त बना हुआ है
जो अपने ही हाथों 
सदियों से
अपने दुश्मनों को
पोसता रहा है और 
आपके बनाये झूठे उसूलों को 
और नकली रसूलों को
सच मानता रहा है पीढ़ी दर पीढ़ी

भक्त जाग जाएगा
तब वह इंसान बन जायेगा
और उसका डर
हमेशा के लिए भाग जाएगा

जब इंसान का डर भाग जाएगा 
तब आपको भी 
अपना खुदाई निजाम लेकर
हमेशा के लिए
खिसकना होगा
या अपने सभी पाखण्डों को
त्याग कर इंसान बन जाना होगा

वर्ना वही आम आदमी 
जो आज भक्त बना हुआ है
मिटा देगा 
आपकी सड़ी हुई 
आसमानी किताबो को
आपके झूठे खुदाओं को
उसकी नकली कहानियों को
और 
इन कहानियों पर आधारित
उन सभी प्रपंचों को 
जिन्हें आप धर्म कहते हो...

इसलिए आप अपनी आसमानी किताबों के 
ज्ञान विज्ञान या मनोविज्ञान को 
अपने बुद्धिहीन भक्तों से हमेशा छुपाए रखिये

विदेशी चुरा ले जाएं वो ठीक
लेकिन 
भक्तों को भनक भी नही लगनी चाहिए
की उनमे कौन सी साइंस छुपी हुई है ?

भक्ति के नाम पर
भक्तों के खून पसीने की कमाई 
खाते रहिये
प्रचारतंत्र के माध्यम से
भक्ति की शक्ति को मजबूत
बनाते रहिये
भक्तों को सदा बरगलाते रहिये 
उन्हें आपस मे लड़ाते रहिये
झूठे खुदाओं को पुजवाते रहिये
हराम का माल डकारते रहिये
जो न माने इन बकवासों को
उन्हें सताते रहिये

और हमेशा चिल्लाते रहिये की
भक्ति में आपर शक्ति होती है....

1 comment:

  1. भक्ति के नाम जो औरत झासे मे आ गई तो यौन शौषण का धंधा जमकर चलता हैं... तथा राम रहिम बाबा उजागर हो जाते हैं, जे जाने के लिए...

    ReplyDelete

Pages