धर्म जिंदा रहेगा इंसानियत मर जायेगी - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Wednesday, October 24, 2018

धर्म जिंदा रहेगा इंसानियत मर जायेगी


मुझे नही मालूम
रोज मर रहे किसानों का धर्म क्या है
देश की सुरक्षा में लगे जवानों का धर्म क्या है
एक दुसरे को नोच खाते
जंगली हैवानों का धर्म क्या है

मुझे नही मालूम 
धर्म के नाम पर
लड़ रहे इंसानों का धर्म क्या है

मुझे नही मालूम
की जिस धर्म के नाम पर
इंसान इंसान से लड़ रहा है
उस धर्म का मर्म क्या है

मैं तुमसे पूछता हूँ हाँ तुमसे
धर्म के रखवालों
मुझे बताओ

उन मासूम बच्चों का धर्म क्या है
जो कश्मीर से लेकर श्रीलंका तक
और सिंध से लेकर ढाका तक
भूखे मर रहे हैं

उन मासूम बच्चों का धर्म क्या है
जो कंधार से लेकर कोचीन तक
और रांची से लेकर करांची तक
भीख मांग रहे हैं

उन मासूम बच्चियों का धर्म कौन सा है
जो लाहौर से लेकर ल्हासा तक
और इलाहाबाद से लेकर इस्लामाबाद तक जिनके जिस्म की मंडियां लगती हैं

मुझे उन मासूम बच्चों का धर्म बताओ 
जो हवस का शिकार हुए
दरिंदगी के शिकार 
इन मासूमों में
कुछ मर गए कुछ मार दिए गए
कुछ रोज थोड़ा थोड़ा मर रहे हैं
ये किस धर्म को मानते थे 
मुझे इनका धर्म जानना है

मुझे उन बेकसूर लोगों का धर्म बताओ
जो आतंक का शिकार हुए
जिन्हें आतंकवाद नक्सलवाद और जातिवाद के नाम पर
मार डाला गया

इन अलग अलग वादों के शिकार 
और शिकारी किस धर्म से हैं
वो कौन सा धर्म है जो मानवता के विरुद्ध विचारों को जन्म देता है
वो कौन सा धर्म है जो
नीच और ऊंच की मानसिकता को पैदा करता है
वो कौन सा धर्म है जो
आतताइयों को पालता है
वो कौन सा धर्म है जो 
घृणा को पोसता है

उन लोगों का धर्म क्या है
जो दंगो और बम धमाकों में 
मर रहे हैं
जिंदगी को घसीट रहे है 
कर्ज के बोझ में दबे हुए है
वो औरते जिनके लिए जिंदगी
किसी शर्मिंदगी से कम नही
वे लोग
जिनके लिए जिंदगी
किसी गंदगी से कम नही 

मैं जानना चाहता हूं कि
क्या ये सब मुसलमान है
क्या ये सब हिन्दू है
क्या ये सब 
ईसाई सिख या यहूदी है
इनका धर्म क्या है

मैं जानना चाहता हूं 
हिटलर गोडसे 
और कसाब का धर्म क्या था

मैं जानना चाहता हूँ
पुष्यमित्र तैमूर और क्लाइव
का धर्म क्या था

मजहब के ठेकेदारों
बताओ मुझे
47 में जो लाखों लोग मरे
वो किस धर्म के थे

गोधरा से लेकर गोहाना तक
और मिर्चपुर से लेकर शाबिरपुर तक
मरने वाले और मारने वाले किस धर्म से थे ?

तुम चिल्लाते हो कि
आतंकवाद का कोई धर्म नही होता
लेकिन मैं कहता हूँ
हर आतंकवादी का धर्म होता है
तुम कहते हो जातियां धर्म का अंग नही
मैं कहता हूँ
हर जातिवादी का धर्म होता है
मुझे बताओ वो धर्म कौन सा है

हर भूखे का धर्म होता है
हर वैश्या का धर्म होता है
मुझे बताओ वो धर्म कौन सा है

तुम नही बताओगे
कभी नही
क्योंकि 
तुम धर्म के धंधेबाज हो
धर्म तुम्हारा बिजनेस है 
तुम इसे बनाते हो
चलाते हो
और
इस धंधे से
इंसानियत को गुलाम बनाते हो
इस तरह
पीढ़ी दर पीढ़ी
खूब कमाते भी हो
तुम ही हो
जो नफरत की
खेती करते हो
घृणा के बीज बोते हो
फिर
सत्ता के हंसुए से
धर्म की घिनौनी फसल काटते हो
इसलिए
तुम कभी भी
नही बताओगे 
की तुमने आज तक 
अच्छा क्या किया
तुम्हारे धर्म ने
दुनिया को क्या दिया

बेबसी गम आंसू 
झूठ मक्कारी और पाखंड 
यही तुम्हारी अब तक कि
सबसे बड़ी उपलब्धि रही है

आज तुम चाहे कितना भी 
कुतर्कों के सहारे 
अपने अपने
धर्म का बचाव कर लो

लेकिन तुम मेरे सामने
एक्सपोज्ड हो चुके हो
तुम्हारा भांडा फुट चुका है
तुम नन्गे हो चुके हो

अब मैं जान गया हूँ 
वो धर्म कौन सा है
जो लूटता है बांटता है
काटता है और गुलाम बनाता है

धर्म के ठेकेदारों
वो धर्म
जिसे तुमने निपट जनता के
गले मे पहनाया है
जिसे पशुओं की भांति
निरीह जनता ने 
धर्म समझ लिया है
और
जिसका एक छोर
हमेशा तुम्हारे हाथ मे रहता है
वो धर्म नही
तुम्हारा बनाया हुआ
फंदा है

तुम ही लड़ाते हो
तुम ही भिड़ाते हो
और तुम ही घृणा के बीज 
भी बोते हो

गरीबी कुपोषण दंगे फसाद
भूख अन्याय और अवसाद
सब तुम्हारी वजह से है

जब तक तुम्हारा
ये घिसा पीटा गुलामी का फंदा
जिसे तुम धर्म कहते हो
जिंदा रहेगा
तब तक 
हर पल
इंसानियत मरती रहेगी

No comments:

Post a Comment

Pages