धर्म के झूठे फलसफे में
तुझे ढूंढते रहे
मजहब के झूठे अफसानों में भी
तुझे खोजते रहे
लेकिन तू नही मिला

जंगल के 
बियाबानों से निकलकर
हम 
गुफाओं तक पहुंचे
और
गुफाओं से निकलकर
मैदानों तक पहुंचे
मैदानों से भी आगे निकलकर
दुनिया के हर कोने तक पहुंचे
सर्दी में मरे
बीमारियों से लड़े
लड़ाइयों में मरे
लेकिन तू 
जहालत के उस दौर में भी 
नही आया
कभी नही

हमने समाज बनाये
संस्कार बनाये
परम्परायें और सभ्यताएं बनाई
लेकिन तू 
विकास के उस दौर में भी नदारद रहा

तुझे खोजने की खातिर
हमने धर्मों को गढ़ा
तेरे नाम पर
सैंकड़ों किताबों का सृजन किया
उन किताबों के हर पन्नों पर
तेरी इबारत लिखी

लेकिन तू नही मिला

फिर भी तेरी तलाश
जारी रखी

हमने इतिहास बनाया
खुद के लिए 
दुनिया को संवारा
थोड़ा बिगाड़ा भी
विकास के नाम पर
भयंकर विनाश भी किया

धातु को खोजा
फिर उससे औजार बनाये
इन औजारों से
हथियार बनाये
इन हथियारों से
रक्तपात किये
नरसंहार किये
लूटपाट किये
साम्राज्य बनाये
सम्राट बने
गुलाम बनाये
गुलाम बने
लेकिन तू 
परिवर्तन के इस दौर में भी 
गायब था 

तुझे ढूंढने की खातिर
तेरे झूठे ठिकाने बनाये
और उन ठिकानों पर
पागलों की तरह 
यात्राएं शुरू कर दीं
हजारों वर्षों से चल रही
कभी न खत्म होने वाली
इन अंतहीन यात्राओं में भी
तुझे न ढूंढ सके

तेरे नाम पर न जाने कितने
निरीह प्राणियों को बलिवेदी पर
तड़प तड़प कर मरना पड़ा
औरतों को सती के नाम पर 
जिंदा जलना पड़ा
असंख्य भूखे मरे
करोड़ो बेघर हुए
लेकिन तेरे घरौंदे को 
आलीशान बनाते रहे
तेरे नाम पर बने मंदिर मस्जिद चर्च में
सबकुछ था 
लेकिन तू नही था

धर्म की बेड़ियों 
जकड़ी औरतें
छटपटाती रही
जातियों में जकड़े इंसान
कराहते रहे
हजारों वर्षों से
तुझे पुकारते रहे
लेकिन तब भी तू नही आया.

तेरे ही नाम पर
घर की चारदीवारी में 
स्त्रियों को कैद होना पड़ा
जनसमूहों को 
संसाधनहीन होना पड़ा

तेरे नाम पर

कई हरामखोर
अय्याशी करते रहे
मासूमों को रौंदते रहे
पीड़ितों को सताते रहे
संसाधनों को लूटते रहे
आबरूओं को नोंचते रहे

लेकिन 
अराजकता के इस माहौल को देखने तू नही आया

तुझे खोजते हुए 
हम अंतरिक्ष मे गए 
चाँद तक पहुंचे
मंगल को खंगाला
सौरमंडल के बाहर 
आकाशगंगा में तुझे
खोजा

ब्रह्माण्ड की 
अनंत गहराइयों तक 
तेरे वजूद को टटोला
लेकिन तू कही नही मिला

आज भी 
तेरे नाम पर
आतंकवाद है
जातिवाद है
पाखंडवाद है
इन सबके कारण
पूरी दुनिया मे
रुदन है आंसू है गम है
गरीबी और कुपोषण है
भय है भूख है और भ्रष्टाचार है
लेकिन हमें पता है
की तू इसे ठीक करने 
आज भी नही आएगा.

क्योंकि तेरा इतिहास ही
तेरी तरह झूठ है
तेरा वजूद भी तेरी तरह
एक पाखंड है
इसलिए 
दुनिया तेरे नाम पर
लड़ लड़ कर 
खत्म भी हो जाये
तब भी तू नही आएगा 
कभी नही.
क्योंकि तू है ही नही
कहीं नही.