इंसाँ हूँ मैं !! - तर्कशील भारत

Header Ads Widget

Saturday, November 4, 2017

इंसाँ हूँ मैं !!

इंसाँ हूँ मैं !!
कोई मरे
इस्लाम के नाम पर,
कोई मरे
राम के नाम पर
मैं क्यों मरुँ ?

मेरा डीएनए ,
किसी धर्म से 
नहीं मिलता !
मेरे खून में
किसी मजहब का 
संक्रमण नहीं !

मैं स्वस्थ हूँ
मैं पवित्र हूँ
क्योंकि मैं
हिन्दू नहीं
मुसलमान नहीं
सिर्फ इंसान हूँ !

तुम्हारी पवित्र किताबों को ,
मैं पवित्र नहीं मानता !
तुम्हारे महान खुदाओं को ,
मैं झूठा और फरेबी 
कहता हूँ !

तुम्हारी रिवायतों को
मैं बंदिश समझता हूँ ,
तुम्हारी परंपराओं को 
मैं बेड़ियां कहता हूँ !

जिस महान संस्कृति पर
तुम इतराते हो ,
उसे मैं कूड़ा समझता हूँ !

जिसे तुम अपना
आदर्श बताते हो ,
मैं उन सब को
मक्कार कहता हूँ !

नर्क की यातनाओं से
डरता नहीं मैं ,
स्वर्ग की सुन्दर 
अपसराओं की 
कोई अभिलाषा नहीं मुझे !

जन्नत की हूरें 
तुम्हें ही मुबारक हों !

जन्नत के खूबसूरत झरनों में
तुम ही डूब मरना !

मुझे नहीं चाहिए
तुम्हारे खोखले आदर्श !

शम्बूक के हत्यारे को 
मर्यादा पुरुषोत्तम मैं क्यों कहूँ ?

किसी हवस के पुजारी को
पैगम्बर मैं क्यों मानूँ ?

तुम्हारी पूजा और नमाजों पर 
मैं थूकता हूँ !
तुम्हारे तीज और त्योहारों को
मैं खूब समझता हूँ !

रोजा और व्रत भी
तुम्हें ही मुबारक हों !
मैं क्यों करूँ ?

मेरा डीएनए 
किसी धर्म से नहीं मिलता
मेरे खून में
मजहब का कोई
संक्रमण नहीं !

मैं स्वस्थ हूँ
मैं पवित्र हूँ
क्योंकि
मैं हिन्दू नहीं 
मुसलमान नहीं
सिर्फ इंसान हूँ !!

एस.प्रेम

No comments:

Post a Comment

Pages